झारखण्ड विधानसभा के नवनिर्मित भवन का सीलिंग टूट कर गिरा

रांची : 465 करोड़ लागत से बनी नवनिर्मित विधानसभा भवन की स्थिति दयनीय होती दिख रही है। आज विधानसभा के लाइब्रेरी का सीलिंग टूट कर गिर गया हालाँकि इस हादसे में किसी के घायल होने की खबर नहीं।
2019 के दिसंबर माह में विधानसभा में आग लगने के कारण भी काफी नुकसान झेलना पड़ा था।
बार बार हो रहे छति के के कारन राज्य की छवि धूमिल होती दिख रही है।

विधानसभा के नए भवन उदघाटन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 12 सितंबर, 2019 को किया था।

देश की भव्य विधानसभाओं में शुमार है भवन

खास बातें

धुर्वा में 39 एकड़ भूखंड पर बनकर तैयार हुआ है विधानसभा का यह नया भवन

तीन मंजिला भवन में उपलब्ध हैं हर प्रकार की आधुनिक सुविधाएं

देश की पहली पेपरलेस विधानसभा, जल और ऊर्जा संरक्षण का मॉडल

37 मीटर ऊंचे गुंबद के साथ देख में सबसे अनोखी विधानसभा का गौरव

आगंतुकों के लिए गैलरी, कांफ्रेंस हाल में 400 लोगों के बैठने की व्यवस्था

सौर ऊर्जा से बिजली की आपूर्ति, छत का बूंद-बूंद वर्षाजल संरक्षित होगा

झारखंड विधानसभा भवन की खासियत

सेंट्रल विंग : एसेंबली हॉल (150 लोगों के बैठने की व्यवस्था), मुख्यमंत्री का चैंबर, स्पीकर का कक्ष, डिप्टी स्पीकर का कक्ष, कांफ्रेंस हॉल (400 लोगों के बैठने की व्यवस्था), एसेंबली सेक्रेटरी का कक्ष, मुख्य सचिव का कार्यालय, प्रधान सचिव का कार्यालय, एमएलए लॉबी, वीआइपी विजिटर गैलरी, मीडिया गैलरी, लाइब्रेरी, कैंटीन आदि। (19837.62 वर्ग मीटर)

पूर्वी विंग : मंत्रियों के कक्ष (22), कमेटी रूम (6), चीफ ह्वीप का कक्ष (1), संयुक्त सचिव, अपर सचिव, उप सचिव व अंडर सेक्रेटरी का कक्ष एवं कार्यालय। (13466.08 वर्ग मीटर)

पश्चिमी विंग : नेता प्रतिपक्ष का कार्यालय, कमेटी रूम (5), कमेटी के चेयरमैन का कक्ष (25), मान्यताप्राप्त राजनीतिक दलों के नेता का कक्ष (5), विपक्ष के चीफ ह्वीप का कक्ष (1), ह्वीप
(5) और अन्य कार्यालय समेत बैंक व पोस्ट ऑफिस जैसी सेवाओं के लिए जगह।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *